कबीर के दोहे Kabir Ke Dohe Hindi Meaning

संत कबीर के दोहे (Sant Kabir ke Dohe)

कबीर के दोहों की कुछ पंक्तियाँ यहाँ दी गयी हैं और उनका भावार्थ भी दिया गया हैं |
Here is a list of Sant Kabir dast ke dohe with hindi meaning. Here some doha's mean described below :

कुटिल वचन सबतें बुरा, जारि करै सब छार।
साधु वचन जल रूप है, बरसै अमृत धार।।

भावार्थ- कबीर जी कहते हैं कि कटु वचन बहुत बुरे होते हैं और उनकी वजह से पूरा बदन जलने लगता है। जबकि मधुर वचन शीतल जल की तरह हैं और जब बोले जाते हैं तो ऐसा लगता है कि अमृत बरस रहा है।


शब्द न करैं मुलाहिजा, शब्द फिरै चहुं धार।
आपा पर जब चींहिया, तब गुरु सिष व्यवहार।।

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि शब्द किसी का मूंह नहीं ताकता। वह तो चारों ओर निर्विघ्न विचरण करता है। जब शब्द ज्ञान से अपने पराये का ज्ञान होता है तब गुरु शिष्य का संबंध स्वतः स्थापित हो जाता है।


कबीर गर्व न कीजिए, ऊंचा देखि आवास
काल परौं भूईं लेटना, ऊपर जमसी घास

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि अपना शानदार मकान और शानशौकत देख कर अपने मन में अभिमान मत पालो जब देह से आत्मा निकल जाती हैं तो देह जमीन पर रख दी जाती है और ऊपर से घास रख दी जाती है।


गाहक मिलै तो कुछ कहूं, न तर झगड़ा होय
अन्धों आगे रोइये अपना दीदा खोय

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि कोई ऐसा व्यक्ति मिले जो अपनी बात समझता हो तो उससे कुछ कहें पर जो बुद्धि से अंधे हैं उनके आगे कुछ कहना बेकार अपने शब्द व्यर्थ करना है।


चिंता ऐसी डाकिनी, काटि करेजा खाए
वैद्य बिचारा क्या करे, कहां तक दवा खवाय॥


भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि चिंता ऐसी डाकिनी है, जो कलेजे को भी काट कर खा जाती है। इसका इलाज वैद्य नहीं कर सकता। वह कितनी दवा लगाएगा।


आगि जो लगी समुद्र में, धुआं न प्रगट होए।
 की जाने जो जरि मुवा, जाकी लाई होय।।


भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि मन के चिंताग्रस्त होने की स्थिति कुछ ऐसी ही होती है, जैसे समुद्र के भीतर आग लगी हो। इसमें से न धुआं निकलती है और न वह किसी को दिखाई देती है। इस आग को वही पहचान सकता है, जो खुद इस से हो कर गुजरा हो।


करु बहियां बल आपनी, छोड़ बिरानी आस।
 जाके आंगन नदिया बहै, सो कस मरै पियास।।

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि मनुष्य को अपने आप ही मुक्ति के रास्ते पर चलना चाहिए। कर्म कांड और पुरोहितों के चक्कर में न पड़ो। तुम्हारे मन के आंगन में ही आनंद की नदी बह रही है, तुम प्यास से क्यों मर रहे हो? इसलिए कि कोई पंडित आ कर बताए कि यहां से जल पी कर प्यास बुझा लो। इसकी जरूरत नहीं है। तुम कोशिश करो तो खुद ही इस नदी को पहचान लोगे।
कबीर प्रत्येक व्यक्ति को स्वावलंबी बनने का उपदेश देते हैं।


अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप।
 अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।।

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि सुखी और स्वस्थ रहना है तो अतियों से बचो। किसी चीज की अधिकता ठीक नहीं होती।

कबिरा यह मन लालची, समझै नहीं गंवार।
 भजन करन को आलसी, खाने को तैयार।।
 कबिरा मन ही गयंद है, आंकुष दे दे राखु ।
 विष की बेली परिहरी, अमरित का फल चाखु ।।

भावार्थ - कबीर दास जी कहते हैं कि यह मन लोभी और मूर्ख है। यह तो अपना ही हित-अहित नहीं समझ पाता। इसलिए इस मन को विचार रूपी अंकुश से वश में रखो, ताकि यह विष की बेल में लिपट जाने के बदले अमृत फल को खाना सीखे।
कबीर के दोहे Kabir Ke Dohe Hindi Meaning कबीर के दोहे Kabir Ke Dohe Hindi Meaning Reviewed by Hardik Agarwal on 06:01 Rating: 5
Powered by Blogger.