Skip to main content

संज्ञा SANGYA (Noun) - Sangya ke bhed & Paribhasha

संज्ञा की परिभाषा (Sangya ki Paribhasha / Definition)

What is Sangya? :
संज्ञा को 'नाम' भी कहा जाता है, जिस शब्द से किसी प्राणी, वस्तु, स्थान, जाति, भाव आदि के 'नाम' बोध होता है उसे संज्ञा कहते हैं

संज्ञातीन प्रकार की होती है
Sangya ke bhed / prakar in hindi. There are three types of sangya / noun : Vyaktivachak, Jativachak, Bhavvachak. Its meaning & examples described below :

१. व्यक्तिवाचक संज्ञा (Proper Noun)

जो शब्द किसी व्यक्ति, स्थान या वस्तु का बोध कराते हैं, उन्हें व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं
उदाहरण - राम, युमना, दिल्ली

२. जातिवाचक संज्ञा (Common Noun)

जो शब्द किसी जाति का बोध कराते हैं, उन्हें जातिवाचक संज्ञा कहते हैं
उदाहरण - पेड़ , पर्वत

३. भाववाचक संज्ञा (Abstract Noun)

जो शब्द किसी भाव, गुण, दशा आदि का बोध कराते हैं उन्हें भाववाचक संज्ञा कहते हैं
उदाहरण - गरिमा , कालिमा

Sangya English Definition :

Nouns are also known as the 'names'. Noun is the name of person, place or thing.

There are three types of Nouns as follows :

1. Proper Noun (व्यक्तिवाचक संज्ञा)
2. Common Noun (जातिवाचक संज्ञा)
3. Abstract Noun (भाववाचक संज्ञा)

Proper Noun :
A Proper Noun is one which specifically refers to a Person, a Place or a Thing.

Proper Noun Example: Ram (Name of a Person), Yamuna (Name of a River), Delhi (Name of a Place)

Common Noun :
A Common Noun is one which refers to the common name of a Person, a Place or a Thing.

Common Noun Example: River, Mountain, City

Abstract Noun:
An Abstract Noun is one which represent feeling, ideas and qualities.

Abstract Noun Example: Sweetness, Darkness, Honesty, Goodness

Popular posts from this blog

घोष और अघोष Ghosh and Aghosh Varn - Alphabets in Hindi

घोष और अघोष (Ghosh and Aghosh Varn - Alphabets) :-  ध्वनि की दृष्टि से जिन व्यंजन वर्णों के उच्चारण में स्वरतन्त्रियाँ झंकृत होती है , उन्हें ' घोष ' कहते है और जिनमें स्वरतन्त्रियाँ झंकृत नहीं होती उन्हें ' अघोष ' व्यंजन कहते हैं !  ये घोष - अघोष व्यंजन इस प्रकार हैं -  In Hindi, See below Ghosh and Aghosh Varn : घोष                                   अघोष ग , घ , ङ                           क , ख ज , झ , ञ                          च , छ ड , द , ण , ड़ , ढ़                  ट , ठ द , ध , न                            त , थ ब , भ , म                            प , फ य , र , ल , व , ह                  श , ष , स

अल्पप्राण और महाप्राण (Alppraan and Mahapraan Alphabets)

अल्पप्राण और महाप्राण (Alppraan and Mahapraan Varn - Alphabets) :-  जिन वर्णों के उच्चारण में मुख से कम श्वास निकले उन्हें ' अल्पप्राण ' कहते हैं ! और जिनके उच्चारण में  अधिक श्वास निकले उन्हें ' महाप्राण 'कहते हैं! ये वर्ण इस प्रकार है - In Hindi, See below both Alppraan and Mahapraan Varn : अल्पप्राण                महाप्राण क , ग , ङ               ख , घ च , ज , ञ              छ , झ ट , ड , ण               ठ , ढ त , द , न               थ , ध प , ब , म               फ , भ य , र , ल , व        श , ष , स , ह

श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द shrutisambhinnarthak Shabd

श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द (Shrutisambhinnarthak Shabd) :-  ये शब्द चार शब्दों से मिलकर बना है , श्रुति+सम +भिन्न +अर्थ, इसका अर्थ है सुनने में समान लगने वाले किन्तु भिन्न अर्थ वाले दो शब्द अर्थात वे शब्द जो सुनने और उच्चारण करने में समान प्रतीत हों, किन्तु उनके अर्थ भिन्न -भिन्न हों , वे श्रुतिसमभिन्नार्थक शब्द कहलाते हैं ! Shruti Sam Bhinnarthak w ords with Different Meanings and Same Pronunciation in hindi. ऐसे शब्द सुनने या उच्चारण करने में समान भले प्रतीत हों ,किन्तु समान होते नहीं हैं, इसलिए उनके अर्थ में भी परस्पर भिन्नता होती है ;  उदाहरण - (अवलम्ब और अविलम्ब) दोनों शब्द सुनने में समान लग रहे हैं, किन्तु वास्तव में समान हैं नहीं, अत: दोनों शब्दों के अर्थभी पर्याप्त भिन्न हैं, 'अवलम्ब ' का अर्थ है - सहारा , जबकि अविलम्ब का अर्थ है - बिना विलम्ब के अर्थात शीघ्र ! ये शब्द निम्न इस प्रकार से है - अंस - अंश = कंधा - हिस्सा अंत - अत्य = समाप्त - नीच अन्न -अन्य = अनाज -दूसरा अभिराम -अविराम = सुंदर -लगातार अम्बुज - अम्बुधि = कमल -सागर अनिल